CurrentGK -> General Knowledge -> Indian Geography -> Himalayan Rivers गंगा तंत्र

If you find this context important and usefull. We request to all visitors to sheare this with your friends on social networking channels.

Himalayan Rivers गंगा तंत्र

Himalayan Rivers गंगा तंत्र

.गंगा तन्त्र :-
:- प्रमुख प्रयाग :- विष्णु प्रयाग -धौली +विष्णुगंगा
कर्ण प्रयाग - अलकनंदा +पींडार
रूद्र प्रयाग - अलकनंदा +मन्दाकिनी
देव प्रयाग - अलकनंदा +भागीरथी =गंगा
---गंगा नदी देव प्रयाग में भागीरथी व अलकनंदा के मिलने से बनती है ।
 ---- देव प्रयाग के ऊपर गंगा को भागीरथी के नाम से जाना जाता है ।
उद्गम :- गंगा का उद्गम गंगोत्री हिमनद से है
मुहाना :- बंगाल की खाड़ी।
-- हरिद्वार के निकट गंगा नदी मैदानी भागो में प्रवेश करती है । इसके बाद नदी पूर्व की और मुड़कर उ.प.,बिहार,पश्चिमी बंगाल में बहती हुई बांग्लादेश में प्रवेश कर जाती है ।
-- बांग्लादेश में गंगा को "पद्मा' के नाम से जाना जाता है ।
--- पद्मा में जमना (ब्रह्मपुत्र का बांग्लादेश में नाम ) आकर मिलती है । इसके आगे यह जमना के नाम से बहती है । बाद में इसमें "मेघना" नदी आकर मिलती है । इसके आगे यह मेघना के नाम से बहती हुई बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है ।
--- हुगली नदी गंगा की एक "वितरिका " है जो पश्चिम बंगाल में बहती हुई बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है ।
--- हुगली को विश्व की सर्वाधिक "विश्वासघाती " नदी कहा जाता है ।
--- हुगली व मेघना के मध्य 'सुंदरवन डेल्टा 'स्थित है जो विश्व का सबसे बड़ा डेल्टा है ।
--- इस डेल्टा में 'सुंदरी' नामक वृक्षों को प्रधानता है ।
---डेल्टाई क्षेत्रो में 'मेग्रोव व ज्वारीय वनस्पति 'पाई जाती है
--- गंगा नदी अपवाह क्षेत्र व पूर्णतया भारत में बहाने के आधार पर भारत की सबसे लम्बी नदी है ।
 सहायक नदिया :-
दाये किनारे या दक्षिण से आकर मिलाने वाली सहायक नदिया :-
1.यमुना
2.सोम

उतर या बाये किनारे से आकर मिलाने वाली सहायक नदिया:-
1.रामगंगा 2.गोमती 3.घाघरा4. गंडक 5.कोसी 6.बूढी गंडक
यमुना नदी :-
उद्गम -- बन्दरपूछ के निकट यमुनोत्री हिमनद (उ.प) उतराखंड
मुहाना -- इलाहबाद में त्रिवेवी संगम गंगा नदी ।
---यमुना नदी गंगा की भारत की सबसे लम्बी सहायक नदी है ।
--- इलाहाबाद में गंगा,यमुना,सरस्वती, का त्रिवेणी संगम बनता है
प्रवाह -- उतराखंड ,दिल्ली ,उ.प.
सहायक नदिया-- चम्बल ,सिंध,बेतवा,केन
सोम नदी :-
उद्गम --अमरकंटक की पहाडियों से ।
मुहाना --- पटना के निकट गंगा नदी ।
प्रवाह -=--मध्य प्रदेश व बिहार
--यह प्रायद्वीप पठार की एकमात्र नदी है जो सीधी गंगा से मिल जाती है ।
केन बेतवा लिंक परियोजना ---
केन व बेतवा नदियों को अमृत क्रांति (25 aug 2005) के तहर चल रही "नदी जोड़ो परियोजना" के तहत जोड़ा जायेगा ।
--- यह परियोजना उ.प व म.प की संयुक्त योजना है ।
उतर से या बाये किनारे से आकर मिलाने वाली नदिया :-
गोमती नदी :- गोमती नदी के किनारे उ.प की राजधानी लखनऊ स्थित है ।
घाघरा के उपनाम :- कर्नाली व कौरियाला नदी ।
--शारदा के मिलने के बाद इसे "सरयू"नदी के नाम से भी जाना जाता है ।
शारदा नदी :- शारदा को "काली" नदी व गोरी गंगा भी कहा जाता है ।
--यह घाघरा की सहायक है ।
गंडक नदी :- इसे नेपाल में "सलिगामी'व भारत के मैदानी भागो में 'नारायणी " कहा जाता है ।
गंडक परियोजना :- यह बिहार व नेपाल की संयुक्त परियोजना है ।
कोसी नदी :-इसे "अरुण "नदी भी कहते है
-- इस नदी से बिहार में भयकर बाढ़ आती है इसलिए इसे "बिहार का शोक " भी कहा जाता है ।
--  यह नदी अपना मार्ग परिवर्तन करने के लिए कुख्यात है ।

कोसी परियोजना :-

यह परियोजना उ.प ,बिहार व नेपाल की संयुक्त परियोजना है ।
--गंगा की यह एकमात्र सहायक नदी है जो अपना स्वयं का डेल्टा बनती है ।
 टिहरी बांध परियोजना :--
यह बांध भागीरथी और भिलांगना के संगम पर स्थित है ।(उतराखंड )
:- बांध की ऊंचाई 2605 मी.है ।
:-यह बांध पूर्ण होने पर भारत का सबसे ऊँचा बांध होगा
:-यह परियोजना भूकम्प क्षेत्रो में स्थित होने के कारन विवादों में रही है ।
:-यह वर्तमान में निर्माणाधीन है ।
माताटीला परियोजना :-

यह वेतवा नदी पर स्थित है (उ.प.)
बेतवा का उद्गम --कुमारागोद की पहाडियों ।
मुहाना --यमुना नदी में
प्रवाह --म.प. व  उ.प
रिहंद बांध परियोजना ---
यह बेतवा की सहायक रिहंद नदी पर स्थित है ।यह उ.प. व म.प. की संयुक्त परियोजना है।
प्रायद्वीपीय पथर से आने वाली गंगा की सहायक नदिया :- सोन,चम्बल,सिंध,केन,बेतवा,दामोदर





24 May, 2019, 06:16:26 AM