CurrentGK -> General Knowledge -> Rajasthan -> Rajasthan Sujas December 2012

If you find this context important and usefull. We request to all visitors to sheare this with your friends on social networking channels.

Rajasthan Sujas December 2012

Rajasthan Sujas December 2012

सुजस दिसम्‍बर, 2012

 

अन्तिम छोर तक विकास का लाभ

  • राजस्‍थान काश्‍तकारी अधिनियम, 1955 में नई धारा 251 ए जोड़ी गई है।

 

औ़द्योगिक विकास की नई इबारत

  • राज्‍य में नई औद्योगिक एवं निवेश संवर्धन नीति-2010 तथा निवेश प्रोत्‍साहन योजना 2010 को लागू किया।
  • राजस्‍थान निवेश प्रोत्साहन योजना में भू-उपयोग, भूमि खरीद, लीज और निर्माण पर स्‍टाम्‍प ड्यूटी में पचास प्रतिशत छूट मिलेगी।
  • राजस्‍थान एन्‍टरप्राइजेज सिंगल विण्‍डो एनेबलिंग एण्‍ड क्‍लीयरेंस अधिनियम-2011 लागू कर दिया गया है।

 

कृषक – कल्‍याण के लिए कृत संकल्‍प

  • दलहन उत्‍पादन हेतु राज्‍य को प्रथम पुरस्‍कार – वर्ष 2010-11 के लिए दलहनी फसलों के अधिकतम उत्‍पादन के फलस्‍वरूप राजस्‍थान को प्रथम पुरस्‍कार के रूप में 1 करोड़ रूपये नकद राशि से पुरस्‍कृत किया गया।
  • वर्ष 2008-09 में डिग्‍गी कम स्प्रिंकलर योजना में 232 डिग्गियों का निर्माण कर 1.22 करोड़ रूपये का अनुदान दिया गया।
  • वर्ष 2012-13 में डिग्‍गी निर्माण पर किसानों को देय अनुदान 2 लाख रूपये से बढ़ाकर 3 लाख रूपये करने के दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं।
  • वर्ष 2008-09 में 421 फार्म पौण्‍ड का निर्माण कर 8.06 करोड़ का अनुदान दिया गया।
  • 50 हजार से बढ़ाकर 60 हजार रूपये करने के दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं।
  • 10 हजार फार्म पौण्‍ड के निर्माण हेतु 60 करोड़ रूपये का वित्‍तीय प्रावधान रखा गया।
  • वर्ष 2008-09 में 200 जल हौज का निर्माण कर 5 करोड़ रूपये का अनुदान दिया गया।
  • मार्च, 2012 तक 1245 जल हौज पर 6.23 करोड़ का अनुदान वितरित किया जा चुका है।

 

32वें भारतीय अन्‍तराष्‍ट्रीय व्‍यापार मेले में राज्‍य को कास्‍य पदक

  • 14 से 27 नवम्‍बर, 2012 तक आयोतिक 32वें भारतीय अन्‍तराष्‍ट्रीय व्‍यापार मेला में राजस्‍‍थान को उत्‍कृष्‍ट प्रदर्शन के लिए राज्‍य मंडपों में कांस्‍य पदक से पुरस्‍कृत किया गया है।

 

पंचायतीराज: सशक्तिकरण की ओर

  • 10 नई पंचायत समितियों के नव सृजन की अधिसूचना जारी की जा चुकी है।
  • ·अब राज्‍य में कुल 249 (पं.स. ऋषभदेव पर स्‍थगन) पंचायत समितियां
  • 73वें संविधान संशोधन के अन्‍तर्गत पंचायतीराज संस्‍थाओं के सशक्तिकरण की प्रक्रिया के प्रथम चरण में 2 अक्‍टूबर, 2010 को आम जनता से जुड़े 5 विभागों क्रमश: प्रारम्भिक शिक्षा, महिला एवं बाल विकास, चिकित्‍सा एवं स्‍वास्‍थ्‍य, सामाजिक न्‍याय एवं अधिकारिता एवं कृषि विभाग की जिला स्‍तर तक की निधियां
  • 24 अप्रैल, 2011 को वर्ष 2010-11 हेतु आयोजित राष्‍ट्रीय पंचायत दिवस समारोह में प्रभावी रूप से हस्‍तान्‍तरण के लिए राज्‍य को प्रथम पुरस्‍कार के रूप में प्रशस्ति पत्र एवं डेढ़ करोड़ की राशि प्रदान की गई है।
  • वर्ष 2011-12 में भी राष्‍ट्रीय स्‍तर पर तृतीय स्‍थान अर्जित कर 24 अप्रैल, 2012 को आयोतजत राष्‍ट्रीय पंचायत दिवत समारोह में वर्ष 2011-12 के लिए प्रशस्ति पत्र एवं 1 करोड़ रूपये पुरस्‍कार के रूप में प्राप्‍त किए गए।
  • 1 अप्रैल, 2011 से ग्राम सचिवालय व्‍यवस्‍था को सभी 33 जिलों में लागू कर दिया गया है। 5, 12, 20 व 27 तारीख को ग्राम पंचायत पर ग्राम पंचायत स्‍तरीय सभी विभागों के कर्मचारियों को उपस्थित रहकर आमजन के कार्य सम्‍पन्‍न कराने होंगे।
  • अब साधारण सभा की बैठक माह के अंतिम गुरूवार के स्‍थान पर ‘माह के अन्तिम शुक्रवार’ को करने के लिए तिथि निर्धारित की गई है।

 

ओलम्पिक पदक विजेताओं का मान-सम्‍मान

  • दो रजत एवं चार कांस्‍य पदकों पर कब्‍जा कर विगत 1896 से प्रति चार वर्षों पश्‍चात आयोजित दुनिया के सबसे बड़े खेल आयोजन ओलम्पिक में अब तक के सर्वाधिक पदक जीत दिखाए।
  • गत 2008 के बीजिंग खेलों में भारत ने एक र्स्‍वण एवं दो कांस्‍य इस तरह तीन पदक हासिल किए थे।
  • पहलवान सुशील ने पिछली बार कांस्‍य और इस बार रजत पदक प्राप्‍त कर दिखाया और लगातार दो ओलम्पिक खेलों में पदक जीतने वाले वे अनूठे खिलाड़ी बन गए।
  • पहलवान सुशील के साथ निशानेबाज विजय ने भी रजत जीता और इसी खेल के गगन नारंग, मुक्‍केबाज मेरीकॉम, पहलवान योगेश्‍वर तथा बैड़मिन्‍टन में साइना ने कांस्‍य पदक जीते थे।

 

मानगढ़ पहाड़ी शहादत की शताब्‍दी वर्ष समारोह

  • बांसवाड़ा जिले की आनन्‍दपुरी पंचायत समिति की मानगढ़ पहाड़ी पर 17 नवम्‍बर, 1913 को लगभग डेढ़ हजार आदिवासियों को अंग्रेजों ने चारों तरफ से घेर कर गोलियों का शिकार बनाया था।
  • मानगढ़ पहाड़ी शहादत के सौ वर्ष पूर्ण होने पर मानगढ़ पहाड़ी पर 17 नवम्‍बर, 2012 को शताब्‍दी वर्ष समारोह का आयोजन किया गया।
  • गोविन्‍द गुरूवार की प्रतिमा का अनावरण किया।
  • ’शहादत के सौ साल’ का विमोचन किया।
  • संत गोविन्‍द गुरू की सम्‍प सभा ।
  • मगसर पूनम मेले के दौरान मानगढ़ पहाड़ी नरसंहार में लगभग 1500 भील समाज के लोग मारे।
  • 1883 में ‘सम्‍प सभा’ की स्‍थापना की।
  • कर्नल शटन के आदेश पर बुलाई गई फौजों ने मानगढ़ पहाड़ी को चारों ओर से घेर लिया।
  • ·अंग्रेजों तथा उनके दरबारी राजाओं ने गोविन्‍द गुरू पर अलग भील राज्‍य बनाने के षडयंत्र का आरोप लगाया।

 

श्रीगंगानगर की जीवन रेखा- गंगनहर

  • वर्ष 1922 से 1927 की अवधि में बीकानेर रियासत के भूतपूर्व महाराजा श्रीगंगासिंह द्वारा 3 करोड़ 30 लाख रूपये की लागत से करवाया गया।




24 May, 2019, 06:16:38 AM