CurrentGK -> General Knowledge -> Polity -> G 20 Summit

If you find this context important and usefull. We request to all visitors to sheare this with your friends on social networking channels.

G 20 Summit

G 20 Summit

G20 शिखर सम्मेलन सम्मेलन (2019 G-20 Osaka Summit)

G-20 ओसाका शिखर सम्मेलन

संस्करण 14वां 

आयोजन स्थल - आसोका जापान

आयोजन तिथि - 28 जून 30 जून 2019

आमंत्रित राष्ट्र इस g20 शिखर सम्मेलन में सदस्य राष्ट्रों के अतिरिक्त जिन राष्ट्रों ने आमंत्रित राष्ट्र के रूप में भाग लिया उनमें चिल्ली मिश्र नीदरलैंड सेनेगल सिंगापुर स्पेन थाईलैंड तथा वियतनाम शामिल है

आमंत्रित अंतरराष्ट्रीय संगठन जी-20 की इस चौधरी शिखर बैठक में जिन संगठनों ने आमंत्रित अंतरराष्ट्रीय संगठन के रूप में भाग लिया उनमें संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस एशियाई विकास बैंक के अध्यक्ष ताकिहीको मकाउ वित्तीय स्थिरता बोर्ड के अध्यक्ष रेंडेल क्वार्लेस आईएमएफ की अध्यक्षा क्रिसटीन लगार्डे अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन के महानिदेशक गाई राइडर विश्व बैंक के अध्यक्ष डेविड मालपास विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस एधानोम तथा डब्‍ल्‍यूटीओ के महानिदेशक रॉबर्टो अजवेदों शामिल हैं। 

विश्‍व के 19 राष्‍ट्रों तथा यूरोपीय युनियन के समूह जी-20 का 14 वां शिखर सम्‍मेलन जापान के ओसाका शहर के अन्‍तराष्‍ट्रीय प्रदर्शनी केन्‍द्र में 28-29 जून 2019 को आयोजित किया गया।

विश्‍व की कुल जीडीपी का 80 प्रतिशत से अधिक का प्रतिनिधित्‍व करने वाले जी-20 के सदस्‍य राष्‍ट्रों के मध्‍य इस ि‍शिखर सम्‍मेलन में आर्थिक तथा व्‍यापारिक मुद्दों के अतिरक्‍त जलवायु परिवर्त्तन, स्‍वास्‍थ्य, आतंकवाद, जल संकट जैसे विषयों पर गम्‍भीर चर्चा की गई।   

2019 जी'20 ओसाका शिखर सम्‍मेलन अत्‍यन्‍त सौहार्द्रपूर्ण वातावरण में आयोजित हुआ जिसके चलते सभी सदस्‍य देशोंं ने  अपनी अर्थव्‍यवस्‍था को तीव्र गति से आगे बढ़ाने के लिए सहयोग के साथ चलने का निर्णय लिया । 

घोषणा पत्र

  • इस शिखर सम्मेलन के समापन पर एक घोषणापत्र जारी किया गया, जिसमें वैश्विक आर्थिक चुनौतियों का सामना करने तथा वैश्विक आर्थिक वृद्धि को तेजी से बढ़ाने के प्रयास करने के साथ ही तकनीकी नवाचार की शक्ति के उपयोग विशेषकर डिजिटलीकरण के उपयोग पर विशेष ध्यान देने पर बल दिया गया
  • इस घोषणापत्र में आधारभूत संरचना में निवेश, वैश्विक वित्तीय सुरक्षा, उचित कर व्यवस्था, भ्रष्टाचार रोधी एक्शन प्लान, श्रम व रोजगार, महिला सशक्तिकरण, स्वास्थ्य तथा धारणीय विकास पर बल दिए जाने को सम्मिलित किया गया।

G20 सम्मिट महत्वपूर्ण तथ्य

  • जलवायु समझौता इस समिट के दौरान जी-20 में 19 देशों ने जलवायु परिवर्तन से संबंधित पेरिस समझौते को लागू करने को मान्यता दी किंतु अमेरिका ने इस मुद्दे पर अपना विरोधी रुख जारी रखा

ट्रेड वार

  • अमेरिका और चीन के मध्य चल रहे हैं व्यापार युद्ध (Trade war) को समाप्त करने के लिए दोनों देश पुनः वार्तालाप करने पर सहमत हो गए।
  • सम्‍मेलन से इतर डोनाल्‍ड ट्रंप तथा शी जिनपिंग के मध्य हुई वार्ता के बाद डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि अमेरिका चीन के निर्यात पर अब कोई नया कर नहीं लगाएगा।
  • सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति ने खामोशी प्रकरण का जिक्र न करते हुए सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान को मित्र बताते हुए दोनों राष्ट्रों के मध्य संबंध बेहतर करने पर बल दिया।
  • अमेरिकी राष्ट्रपति ने इस अवसर पर उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन से एक बार मिलने का प्रस्ताव दिया।

ब्रिक्‍स नेताओं की वार्ता

  • जी-20 सम्मेलन से अलग ब्रिक्स ब्राजील रूस इंडिया चीन तथा साउथ अफ्रीका (BRICS) नेताओं ने भी मुलाकात की तथा वार्ता के बाद साझा बयान जारी किया।
  • नेताओं के बयान में कहा गया है कि अवैध धन तथा वित्तीय प्रवाह सहित भ्रष्टाचार और विदेशी क्षेत्रों में अनुचित धन अर्जन एक वैश्विक चुनौती है जो कि आर्थिक विकास तथा सतत विकास पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है

जी-20 में भारत

  • भारत ने इस सम्मेलन में आतंकवाद जलवायु भ्रष्टाचार जैसे मुद्दों को बलपूर्वक उठाते हुए कहा कि भ्रष्टाचार व आतंकवाद किसी भी समाज तथा देश के लिए हानिकारक है। 

द्विपक्षीय वार्ता 

  • भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी-20 सम्मेलन से इतर संगठन के कई देशों के साथ द्विपक्षीय वार्ता की।
  • प्रधानमंत्री ने इन 2 दिनों में कुल 19 बैठकें की उन्होंने 28 जून 2019 को डॉनल्ड ट्रंप व्लादीमीर पुतिन व सी जिनपिंग सहित कई राष्ट्र अध्यक्षों से द्विपक्षीय वार्ता है कि जबकि 29 जून, 2019 को इंडोनेशिया ब्राजील तुर्की ऑस्ट्रेलिया सिंगापुर और चिली के नेताओं से मिले।

जापान-भारत-अमेरिका (JAI) त्रिपक्षीय वार्ता

  • ओसाका जापान में आयोजित जी-20 समिट से पूर्व भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी-20 के मेजबान राष्ट्र जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे तथा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के मध्य महत्वपूर्ण त्रिपक्षीय बैठक संपन्न हुई।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीनों राष्ट्रों की संयुक्त शक्ति का उल्लेख करते हुए कहा कि तीनों राष्ट्र जापान का J, अमेरिका का A, तथा इंडिया का I का आशय है 'जय' (JAI) अर्थात विजय।
  • इस त्रिपक्षीय वार्ता में प्रधानमंत्री मोदी ने ट्रंप तथा आबे से हिंद-प्रशांत क्षेत्र में पहुंचे और बुनियादी ढांचे के विकास में सुधार पर चर्चा की।
  • इस वार्ता में यह बल दिया गया कि तीनों देश के खुले, स्थिर व नियम आधारित हिंद-प्रशांत की दिशा में मिलकर कार्य कर सकते हैं।
  • उपर्युक्त वार्ता के अतिरिक्त प्रधानमंत्री में IRC (रूस-भारत-चीन) की त्रिपक्षीय वार्ता में भी भाग लिया इसमें सीमा सुरक्षा, बढ़ते आतंकवाद तथा आधुनिक हथियार प्रणाली पर चर्चा की गई।

 डिजिटल इकोनामी

  • जी-20 घोषणा-पत्र में डिजिटल इकोनामी को भी सम्मिलित किया गया है किंतु भारत ने डिजिटल इकोनामी पर ओसाका घोषणा-पत्र पर हस्ताक्षर करने से मना कर दिया।
  •  भारत ने ये कदम अमेरिका तथा जापान के नेतृत्व में विकसित देशों के विरुद्ध विरोध प्रदर्शित करने के लिए उठाया, जो कि डाटा के सीमा पार प्रवाह पर बल दे रहे हैं।
  • विशेष - श्री सुरेश प्रभु इस सम्मेलन में भारत के शेरपा थे।

 





13 Nov, 2019, 20:11:31 PM